Anchor Text क्या है और SEO के लिए यह कितना जरूरी है?

Anchor Text Kya hai क्या आप Anchor Text के बारें में जानते हैं? SEO अपने आप में बहुत बड़ा क्षेत्र है यहाँ हर दिन सीखने की जरूरत है. SEO या Digital Marketing Course कर लेने से कुछ नहीं होता है. इसे लगातार प्रैक्टिस और सीखते रहना जरूरी है. SEO Full Form Search Engine Optimization होता है. SEO एक प्रोसेस है जिसकी मदद से किसी वेबसाइट या ब्लॉग को SERP में रैंक करवाया जाता है. SEO में कई काम करना होता  है. इसे मुख्य रूप से दो भाग बाटा गया है. On Page SEO और Off Page SEO. On Page SEO में ही Anchor text काम आता है. ज्यादातर लोग Anchor Text को कम अहमियत देते हैं लेकिन, इससे भी SERP में रैंक हासिल किया जा सकता है. Hyperlinks के विज़िबल और Clickable टेक्स्ट को Anchor Text कहा जाता है. सामान्य तौर पर एंकर टेक्स्ट ब्लू कलर के साथ underline होता है. CSS Change कर इसका कलर बदला जाता है. Anchor टेक्स्ट मे use होने वाले keyword को सर्च इंजन नोटिस करता है और यह SEO के लिए बहुत काम का माना जाता है. सर्च इंजन और यूजर को link के कंटेंट की सही इनफार्मेशन देने एंकर टेक्स्ट करता है.

anchor text kya hai

एंकर टेक्स्ट क्या है?

एंकर टेक्स्ट वह Clickable Text है जो पोस्ट में किसी अन्य पोस्ट को लिंक करने का काम करता है. एंकर टेक्स्ट का इस्तेमाल हाइपर लिंक की तरह यूजर का ध्यान खींचने के लिए किया जाता है. इससे वेबसाइट का Bounce Rate कम होता है. सामान्य तौर पर कहें तो ब्लॉग पोस्ट में इंटरनल और एक्सटर्नल लिंक को ही एंकर टेक्स्ट कहते हैं. यदि यह सर्च इंजन इंजन पॉलिसी को फॉलो करता है तो White Hat SEO के अंदर आता है और यदि यह सर्च इंजन को फॉलो नहीं करता है तो Black Hat SEO की तरह काम करता है.

anchor text

Anchor Text से वेबसाइट के अन्य पेज को आसानी से क्रॉल करवाया जा सकता है. इस पोस्ट में भी कुछ टेक्स्ट रेड कलर का दिख रहा है यह एंकर टेक्स्ट ही है. यहाँ क्लिक करने से एंकर टेक्स्ट में लिखा गया पोस्ट पेज खुल जायेगा। Mouse Cursor को यहाँ लाते ही यह Hand icon में बदल जाता है. ऊपर हाई लाइट किया गया वर्ड एंकर टेक्स्ट है.

एंकर टेक्स्ट क्यूँ जरूरी है?

अक्सर ऐसा देखा गया है लोग एंकर टेक्स्ट का इस्तेमाल करने में गलती कर देते हैं. इसे डिटेल में समझाने के लिए नीचे कुछ पॉइंट में जानकारी दी गई है.

Good Anchor Text

एंकर टेक्स्ट में ऐसे शब्दों का इस्तेमाल जो एक कीवर्ड हो और उसके बारें में ही पोस्ट में जानकारी दी गई हो अच्छा एंकर टेक्स्ट माना जाता है. सर्च इंजन भी इसे समझ पाता है यह जानकारी इस बारें में दी गई है. एंकर टेक्स्ट में हमेशा वही वही कीवर्ड का इस्तेमाल करना चाहिए जिसके बारें में पोस्ट लिखा गया है.

Bad Anchor Text

यह ब्लैक हैट एसईओ की तरह काम करता है. इसमें एंकर टेक्स्ट का कलर बैकग्राउंड कलर में किया जाता है या एंकर टेक्स्ट में कुछ दिया गया है और जिस पेज को लिंक किया गया है उसमें जानकारी कुछ और है. Learn More, Click Here, Click it, Clink on, Click Kare यह सब Bad Anchor Text है.

यदि ब्लॉग में कोई रिलेटेड पोस्ट पहले से पब्लिश है तो उससे रिलेटेड कीवर्ड का इस्तेमाल कर एंकर टेक्स्ट बनाये जैसे यदि SEO Kya Hai SEO kaise Kare इसके बारें में पोस्ट लिख रहे हो और पहले से कोई पोस्ट है Best WordPress SEO Plugin तो यहाँ Best WordPress SEO plugin को एंकर टेक्स्ट में इस्तेमाल कीजिये। इससे वेबसाइट का आर्गेनिक ट्रैफिक बढ़ता है.

Anchor Text Types in Hindi

Anchor Text का इस्तेमाल बैकलिंक और लिंक बिल्डिंग के लिए किया जाता है. एंकर टेक्स्ट का सही इस्तेमाल के लिए एंकर टेक्स्ट कितने तरह का होता है इसकी जानकारी होनी चाहिए।

Exact Match Anchor Text

Search Engine Ranking सुधारने के लिए यह सबसे ज्यादा उपयोग किया जाने वाला एंकर टेक्स्ट है. इसमें एंकर टेक्स्ट में Keyword का इस्तेमाल किया जाता है. जैसे किसी हेल्थ ब्लॉग या पोस्ट में Health Tips in Hindi का उपयोग किया जाता है. इसका फायदा और नुकसान दोनों है. कभी कभी इससे गूगल पेनाल्टी मिलने का भी खतरा  है. Exact Match Anchor Text एक टारगेट कीवर्ड की तरह काम करता है.

Partial Match Anchor Text

इसमें टारगेट keyword का कुछ हिस्सा (partial) उपयोग किया जाता है. जैसे टारगेट keyword है “Best Health Blog in Hindi” तो इसका partial match एंकर टेक्स्ट हो सकता है “Best Health Blog”. किसी ब्लॉग पोस्ट में दो तरीके से एंकर टेक्स्ट का इस्तेमाल होता है.

  • Inbound Link – वैसा लिंक जो इसी ब्लॉग का कोई पोस्ट ओपन करता है Inbound Link कहलाता है. इससे यूजर एक ही वेबसाइट या ब्लॉग का कई पेज विजिट करता रहता है. इससे Bounce Rate कम होता है.
  • Outbound Link – इस लिंक की मदद से यूजर एक वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट तक पहुँचता है. इस लिंक का इस्तेमाल Reference के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

Naked Link Anchor Text

इस तरह के एंकर टेक्स्ट में डायरेक्ट लिंक ही इस्तेमाल किया जाता है. जैसे https://www.google.com इस लिंक के लिए Google.Com एंकर टेक्स्ट के रूप में इस्तेमाल किया जाता है. यह साधारण एंकर टेक्स्ट है.

Generic Anchor Text

यह Bad Anchor Text है जैसा ऊपर बताया गया है. इसमें एंकर के लिए simple या कोई generic word use किया जाता है जैसे – Click here, read more, this page, check this out, etc.

Branded Anchor Text

इस तरह के एंकर टेक्स्ट में brand name use किया जाता है. जैसे ‘Guruji Tips’ Anchor Text linking with – https://www.gurujitips.in. इससे रैंकिंग में कुछ फर्क नहीं परता है. जितना हो सके इसका उपयोग कम करना चाहिए।

Image Anchor

कई वेबसाइट में इमेज एंकर टेक्स्ट के रूप में उपयोग किया जाता है. यहाँ टेक्स्ट की जगह इमेज का इस्तेमाल किया जाता है. वेबसाइट में जब कभी भी इमेज का इस्तेमाल करें Alt Tag जरूर उपयोग करें। क्यूंकि सर्च इंजन Alt Tag से ही Image का डिटेल निकलती है.

एंकर टेक्स्ट के फायदें

वेबसाइट में inbound और outbound link के लिए एंकर टेक्स्ट  इस्तेमाल किया जाता है. इसका सही इस्तेमाल सर्च इंजन रैंकिंग में मदद करता है जबकि इसके गलत इस्तेमाल से गूगल पेनल्टी मिल सकता है. इसका इस्तेमाल Organic Traffic के लिए किया जाता है. सही तरीके से Exact Match Keyword का उपयोग किया जाये तो सर्च इंजन में ब्लॉग पोस्ट ऊपर रैंक करता है. इससे बाउंस रेट में भी काफी सुधार होता है. बाउंस रेट कम होने का मतलब यूजर ज्यादा देर तक वेबसाइट पर रुक रहा है.

You May Also Read

Basic SEO Terms and Meaning in Hindi

Top 10 Unknown Benefits of Blogging जिसके बारें में आप नहीं जानते हो!

Backlink क्या है और High Quality Backlink कैसे बनाये?

यूट्यूब चैनल की सभी विडियो डाउनलोड कैसे करें?

5 आसान तरीका जिससे 30 दिन में अंग्रेजी बोलना सीखें

Conclusion Anchor Text

SEO में किसी भी प्रोसेस के गलत इस्तेमाल का नतीजा वेबसाइट का रैंकिंग कम हो जाता है. Anchor Text का इस्तेमाल हमेशा सही जगह और सही तरीके से करना चाहिए।

  • हमेशा सही इस्तेमाल करना चाहिए कई बार जरूरत नहीं होने पर भी एंकर टेक्स्ट लगा देते हैं ऐसा बिलकुल भी नहीं करें।
  • बैकलिंक बनाते समय वेबसाइट का Spam Score, DA, PA जरूर चेक कीजिये। Spam Site या Low DA PA साइट के साथ ब्लॉग को लिंक करने से बचें।
  • गेस्ट पोस्ट लिखने का मकसद बैकलिंक है. Low Da Pa साइट पर कंटेंट लिखकर कोई फायदा नहीं मिलने वाला है. गेस्ट पोस्ट हमेशा Relevant Keyword पर ही करें।

कुछ ब्लॉगर और SEO Blog का कहना है Anchor Text अब SEO के लिए काम नहीं करता है. लेकिन, ऐसा नहीं है अभी भी इससे Search Engine Ranking improve किया जा सकता है. उम्मीद है. एंकर टेक्स्ट क्या है (What is Anchor Text in Hindi) यह पोस्ट जरूर समझ आ गया होगा। इस जानकारी से संबंधित कोई प्रश्न है तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करें।

Subscribe for Quick Update

About the Author: Guruji Tips

Guruji Tips is a website to provide tips related to Blogging, SEO, Social Media, Business Idea, Marketing Tips, Make Money Online, Education, Interesting Facts, Top 10, Life Hacks, Marketing, Review, Health, Insurance, Loan and Internet-related Tips. यदि आप भी अपना Content इस Blog के माध्यम से publish करना चाहते हो तो कर सकते हो. इसके लिए Join Guruji Tips Page Open करें. आप अपना Experience हमारे साथ Share कर सकते हो. धन्यवाद !
loading...

Related Post

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *