कर क्या है What is Tax in Hindi

Tax Kya Hai कर क्या है कई लोगों का यह प्रश्न हो सकता है. भारत देश में बहुत काम ऐसे लोग हैं जो समय पर सही से कर (Tax) का भुगतान सरकार को करते हैं. हमारा स्वभाव है हम सिर्फ सामने वाले से अच्छे काम की इक्षा रखते हैं. हम कभी भी खुद से यह उम्मीद नहीं करते हैं. हमारे देश में बहुत कम कर दाता हैं और जो कर देते हैं, वो सरकार को बहुत कोसते हैं. कुछ दिन पहले मैं एक व्यक्ति से मिला वह सरकारी नौकरी में है. फ़रवरी माह की सैलरी में उसके कुछ पैसे टैक्स के रूप में कट गए इसके लिए वह इतना परेशान हो गया मानो साल भर उससे सरकार ने फ्री में काम करवा लिया. इससे साफ़ जाहिर होता है या तो उसके पास टैक्स सम्बंधित ज्ञान की कमी है या वह सरकार को टैक्स देना नहीं चाहता है.

tax kya hai

टैक्स क्या है?

किसी व्यक्ति, राज्य और संगठन से जो धनराशि सरकार लेती है उसे कर / टैक्स (Tax ) कहते हैं. इन काम में यदि सरकारी कर्मचारी मदद कर टैक्स की चोरी करवा दे तो यह घूस है. हम घूस तो दे देते हैं लेकिन, सरकार को टैक्स नहीं दे सकते हैं. इसका सबसे बड़ा वजह टैक्स सम्बंधित ज्ञान नहीं है. कुछ लोग तो कर (Tax) के नाम से डरते भी हैं.

बिज़नेस क्या है? What is Business in Hindi

कर (Tax) से सम्बंधित डर हटाने लिए कर (Tax) के विभिन्न पहलुओं को समझना ज़रूरी है. टैक्स का मुख्य उद्देश्य जनता से कर लेना है और इस धन राशि से जनता को मूलभूत सुविधाएं देना होता है. जैसे सड़क, सार्वजनिक शौच, सार्वजनिक यातायात, अस्पताल, शिक्षा आदि. कहने का मतलब जनता को दी जाने वाली सुविधा के लिए जनता से जो धन राशि वसूला जाता है कर (Tax) कहलाता है. किसी भी देश का कर सम्बंधित कार्य देश का वित्तीय विभाग का मंत्रालय देखता है.

टैक्स के प्रकार

भारत में मुख्य रूप से दो तरीके का टैक्स लागू किया गया है. जिसमें से एक की जगह अब GST (Goods and Service Tax) लागू कर दिया गया है. कर लगाने का मुख्य उद्देश्य विकास कार्यों के लिये धन एकत्र करना तथा यथासंभव राष्ट्र की विषमता को दूर करना है. इसीलिए जिनकी अधिक आय है, उन्हें कम आय वालों की अपेक्षा अधिक टैक्स देना होता है. देश के विभिन्न विभागों को सही तरीके से चलाने के लिए, देश के नागरिको द्वारा कर (Tax) समय समय पे भरना बहुत ज़रूरी है. टैक्स जमा करना हर नागरिक की जिम्मेदारी है.

प्रत्यक्ष कर (Direct Tax)

प्रत्यक्ष कर (Direct Tax), वह कर है जिसे सरकार द्वारा जनता पर लगाया जाता है. यह कर व्यक्ति या संगठन द्वारा सरकार को दिया जाता है. यह सरकार द्वारा प्रत्यक्ष रूप से व्यक्ति और संगठन पर लागू टैक्स है. व्यक्ति या संगठन अपने कमाए हुए धन पर मुख्य उद्देश्यों के लिए सरकार को टैक्स का भुगतान करती है. जिस किसी के ऊपर भी टैक्स लगाया जाता है वह संगठन या व्यक्ति ही इसे जमा करता है. डायरेक्ट टैक्स भी कई तरह का होता है.

  • आय कर (Income Tax) यह पहला प्रत्यक्ष कर (Direct Tax ) जिसे व्यक्ति या संगठन के आय पर लगाया गया है. किसी कंपनी की आय कुछ भी हो उसे यह टैक्स जमा करना होता है. किसी व्यक्ति की आय पर लगने वाला टैक्स उसकी आय पर निर्भर है. देश में यदि किसी व्यक्ति की आय पांच लाख रुपये तक है तो उसे यह कर देने की आवश्यकता नहीं है. यदि किसी की कमाई इससे ज्यादा है तो कमाए धन पैट टैक्स देना होगा.
  • कैपिटल गेन्स टैक्स (Capital Gains Tax) दूसरा कर के रूप में कैपिटल गेन्स टैक्स है. इसके तहत यदि संपत्ति, शेयर, बॉन्ड्स या कसी महंगी वस्तुओं को बेचने पर मिलने वाला मुनाफा पर कर देना होता है.
  • सिक्योरिटीज ट्रांसक्शन टैक्स (Securities Transaction Tax) तीसरा प्रत्यक्ष कर के रूप में सिक्योरिटीज ट्रांसक्शन टैक्स (Securities Transaction Tax) लाया गया. इसके तहत स्टॉक एक्सचेंज (stock exchange) में किये गए हर लेन- देन (transaction) पर कर (Tax) देना होता है.
  • कॉर्पोरेट कर (Corporate Tax) कॉर्पोरेट कर (Corporate Tax), इसके तहत देश भर की कंपनियां अपनी आय पर सरकार को कर (Tax) देती है. देश की व्यवस्था को सुचारू रूप से चलने के लिए यह चार प्रकार के प्रत्यक्ष कर (Direct tax) सरकार तक पहुंचना ज़रूरी है. इसीलिए भारतीय नागरिक होने के नाते हमें अपने हिस्से का कर जरूर चुकाना चाहिए.

अप्रत्यक्ष कर

अप्रत्यक्ष कर इसके नाम से ही स्पष्ट है, ऐसा कर जो अप्रत्यक्ष रूप से सरकार तक पहुँचती है. यह कर (Tax) प्रत्यक्ष कर (Direct Tax ) का उल्टा है. इसमें राज्य द्वारा आयात, निर्यात, उत्पादन और खपत पर कर लगाया जाता है. अप्रत्यक्ष कर भी जनता को ही देना है. लेकिन, इसे लगाया कहीं और जाता है और वसूला कहीं और जाता है. अप्रत्यक्ष कर एक स्थान्तरित कर है. नीचे लिखे कर अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) के अंतर्गत आता है.

फाइनेंस क्या है What is Finance in Hindi

  • सर्विस टैक्स (Service Tax) सभी सेवाओं पर लगने वाला टैक्स सर्विस टैक्स (Service Tax) कहलाता है. देश में अभी हर सेवा पर 15% का टैक्स सर्विस टैक्स के रूप में देना होता है. यह टैक्स छोटे व्यवसायी जिनका कारोबार 10 लाख से काम का है उन पर नहीं लगाया जाता है.
  • बिक्री कर (Sales Tax) जैसा की ऊपर बताया गया है, अप्रत्यक्ष कर एक स्थान्तरित कर है. इसमें वस्तुओं को बेचने पर लगने वाला टैक्स का सीधा बोझ ग्राहक पर पड़ता है. यह निर्माता (Manufacturer) से होते हुए व्यापारियों से दुकानदार और अंत में यह ग्राहक को जी स्थानांतरित कर दिया जाता है.
  • उत्पाद कर (Excise Duty) देश में बनने वाले उत्पादों पर लगने वाले कर को उत्पाद कर (Excise Duty) कहते हैं. यह कर निर्माता के द्वारा दिया जाता है जिसे अदा व्यापारी करते हैं. यह टैक्स केंद्र सरकार द्वारा लगाया जाता है.
  • प्रोफेशनल टैक्स ( Professional Tax) प्रोफेशनल लोगों जैसे डॉक्टर, वकील, इंजीनियर इस केटेगरी में सभी वैसे लोग आते हैं जो अपने हुनर से पैसे कमाते हैं. ऐसे लोगों से सरकार प्रोफेशनल टैक्स वसूलती है.
  • स्टाम्प ड्यूटी/ कर (Stamp Duty) किसी संपत्ति के खरीद बिक्री पर राज्य सरकार स्टाम्प शुल्क (Stamp Duty) लेती है. यह वही स्टाम्प है जिस पर जमीन का रेजिस्टरी किया जाता है.
  • लाभांश वितरण कर (Dividend distribution Tax) वैसी कंपनी जो कंपनियां अपने निवेशकों को लाभ का हिस्सा देती है, सरकार उन्हें भी नहीं छोड़ती है. उनसे लाभांश वितरण कर (Dividend distribution Tax) लेती है. कंपनी अगर अपने आय पर कर भरने का उत्तरदायी न भी हो, फिर भी उसे लाभांश वितरण कर भरना होता है.
  • संपत्ति कर (property Tax) क्या आप जानते हैं? नगर निगम का क्या काम करती है? सम्पति मालिक से संपत्ति कर (property tax) वसूलन नगर निगम का ही काम है. इसमें उन संपत्ति को शामिल किया गया है जिससे किराया मिलता है.
  • मनोरंजन कर (Entertainment Tax) राज्य सरकार फिल्म, प्रदर्शनी, DTH सर्विस और केबल सर्विस पर मनोरंजन कर (Entertainment Tax) लगाती है, इसे भी भोली भाली जनता जो भीड़ में लाइन लग कर टिकट लेता है उससे यह टैक्स वसूलती है.
  • वैट कर (VAT) वस्तुओं और सेवाओं के उपभोग पर लगने वाला अंतिम कर है, और किसी भी वस्तु का अंतिम खरीददार भी जनता है. अतः यह कर भी आम ग्राहक से लिया जाता है.
  • टोल कर (toll Tax) इससे तो सभी वाकिफ है. हम बिलकुल सही समझे यह वही है. सड़कों और पुलों से गुजरने पर यह कर लिया जाता है.

इन्ही अप्रत्यक्ष कर (Indirect Tax) को GST से बदल दिया गया. GST क्या है कैसे काम करता है?

You May Also Read

Direct Selling Companies List in India 2018-19

बैंक अकाउंट में पैसे भेजने के लिए एंड्राइड एप्लीकेशन

Paytm Postpaid से बिना पैसे की खरीदारी कैसे करें

क्रेडिट कार्ड क्या हैं, Credit Card Kya Hai

FREE BUSINESS IDEA IN HINDI

What is Tax in Hindi कर क्या है इसके बारें में समुचित जानकारी दी गई है. भारतीय टैक्स व्यवस्ता से सम्बंधित कोई प्रश्न हो तो निचे कमेंट बेक्स में पूछ सकते हैं.

People may also search : tax kya hota hai in hindi, tax kya hai, kar kya hai, tax jankari in hindi, gst kya hai, tax kitne prakar ke hote hai,

Subscribe for Quick Update

About the Author: Guruji Tips

Guruji Tips is a website to provide tips related to Blogging, SEO, Social Media, Business Idea, Marketing Tips, Make Money Online, Education, Interesting Facts, Top 10, Life Hacks, Marketing, Review, Health, Insurance, Loan and Internet-related Tips. यदि आप भी अपना Content इस Blog के माध्यम से publish करना चाहते हो तो कर सकते हो. इसके लिए Join Guruji Tips Page Open करें. आप अपना Experience हमारे साथ Share कर सकते हो. धन्यवाद !
loading...

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *