बाउंस रेट क्या है और कैसे कम करें?

Bounce Rate Kya Hai बाउंस एक अंग्रेजी शब्द है जिसका हिंदी मतलब उछल, कूद होता है. वेबसाइट पर भी यह उछल कूद लगा रहता है. कहने का मतलब जब कोई यूजर वेबसाइट के किसी पेज पर आया और वह उसी पेज से वापस हो गया या वेबसाइट का कोई और पेज भी चेक किया. यदि आप एक Website Owner या Blogger हैं तो कुछ Technical Term (Alexa Rank, Site Speed, Traffic, Daily Page Views, Bounce Rate) से आप जरूर परिचित होंगे. ये सभी Term SEO Purpose से Use होता है. हर एक Blogger का यह ख्वाहिश होता है उसके Blog का Reader दिन प्रतिदिन बढे. उसके Post को Line By Line पढ़े, Blog के ज्यादा से ज्यादा Post को पढ़े. आज के इस Post में हम Bounce Rate Kya Hai इसके बारें में बात करेंगे. Bounce Rate की जानकारी सभी Website Admin को होना जरूरी है, ताकि Website के Traffic का सही Use कर सकें.

bounce rate kya hai

Internet Users daily Google पर कुछ न कुछ Search करते हैं. इस Search के क्रम में Google SERP (Search Engine Page Result) कई Website के Link को Suggest करता है. इनमे से जो Link या Website सही लगता है उसे Open कर User information collect कर लेता है. यदि Article में कोई Unknown Word Use किया गया हो साथ ही वो Unknown Word किसी Link से Connected हो तो User उस Link को भी Open करता है. Site का Design, Blog Post Writing Format, Post Value User को अच्छा लगता है तो User regular site Visit करने लगता है.

Bounce Rate Kya Hai

Bounce Rate दो Word से मिलकर बना है. पहला Bounce जिसका मतलब है Jump or उछाल. दूसरा Rate जिसका मतलब है Quantity or Frequency or दर. Bounce Rate उछलने का दर होता है, यह बिलकुल सही है. इस Term को अच्छे से Explain करता हूँ.

किसी Particular Website का ऐसा Visitors जो Website के किसी एक Page से ही वापिस हो जाता है.”

OR

“The percentage of visitors to a particular website who navigate away from the site after viewing only one page.”

यह Rate Percentage में होता है.

Example : मेरे Blog का Bounce Rate 68 % है that means कि 68 % ऐसे Users हैं जिन्होंने Blog का कोई एक Page ही Open किया. इससे आप समझ सकते हैं Bounce Rate जितना कम हो अच्छी बात है. 26 से 40 % के Bounce Rate को Ideal माना जाता है. यदि आपके Blog का Bounce Rate इससे भी कम है तो बहुत अच्छी बात है. लेकिन ऐसे Blog और Website बहुत कम है जिनका Bounce Rate 26 % से भी कम है. 41 से 70 % के Bounce Rate Average Rate होता है. लेकिन इससे ज्यादा है तो इस Subject पर ध्यान देने की जरूरत है.

Standard Bounce Rate

Standard Bounce Rate for Websites and Blog

  • Content Website – 40 – 60 %
  • Lead Generation Website – 30 – 50 %
  • Retail Business Website – 20 – 40 %
  • Service Provider Website – 10 – 30 %
  • Landing Pages Website – 70 – 90 %
  • Blogs – 70 – 98 %

अब तक हमनें Bounce Rate के बारें में जान लिया. क्या आप Bounce Rate Check करने जानते हैं? यदि हाँ तो आपके Blog या Website का Bounce Rate क्या है Comment में जरूर बताएं. यदि नहीं तो Bounce Rate निकलना सीखें then बताये आपके Website या Blog का क्या है.

How To Check Bounce Rate

Internet पर कई Sites Available हैं जहाँ Bounce Rate Check किया जा सकता है. लेकिन इन सब में से Google Analytic और Alexa दो ज्यादा अच्छा है. एक नए Blogger के लिए बहुत जरुरी है Bounce Rate जानना जिससे According to Bounce Rate Site में सुधर कर सकें.

How to check Bounce Rate by using ALEXA

Alexa की मदद से Check करने के लिए www.alexa.com/siteinfo को Open करें या यहाँ Click करें. यहाँ Search Box में domain address type कर Find Button Hit करें. यह Website का सभी Details बताता है.

  • Alexa Rank
  • Audience Geography
  • Engagement (Engagement, Daily Page Views Per Visitor and daily time on site)
  • Top Keyword from Search Engine
  • Total sites linking in
  • Related Sites

How to check Bounce Rate by using Google Analytics

Daily, Monthly या Weekly जैसे भी चाहो आप Traffic Record Check कर सकते हैं सभी Option में Bounce rate भी दिखता है. इसके लिए Blog का Analytics से connect होना बहुत जरूरी है.

Reasons For High Bounce Rate

High Bounce Rate Website या Blog के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं. Bounce rate कम होने का मतलब User site के कई Page को Open करता है. इसके कई कारण हो सकते हैं जिनमे से कुछ मैं आपके साथ Share कर रहा हूँ.

  • Site Speed : इसका मतलब है Particular Site कितने समय में open ओ रहा है. Site Open होने में ज्यादा time लगता है तो Readers का Response अच्छा नहीं मिलेगा.
  • Site Design : वैसे तो Design का कोई ज्यादा Value नहीं है लेकिन Font, Font Size, Image Placement, Background यह सब Readers के लिए Comfortable न हो, Site Mobile Responsive न हो तो Bounce Rate High होना स्वाभाविक है.
  • Lack of High Quality Content : High Quality Content की कमीं से भी Bounce Rate ज्यादा हो जाता है.
  • Low Quality Content : 3000 Word के Content में User के लिए helpful कुछ भी नहीं मिला तो Content बेकार. साथ ही Title के according Post नहीं लिखा होने से भी बुरा असर पड़ता है.
  • Single Page Site : Blog के Post में किसी दुसरे Post का Link नहीं है. ऐसे में User Next Page पर Visit करेंगे इसका संभावनाम है.
  • Copy Paste Content :  Copy Paste Content का कोई Value नहीं है. Readers को भी समझ आता है यह Content किसी और Website से लिया गया है.
  • Blog Post Writing Format : एक Standard Writing Format को Follow न करना भी गलत बात है. सही Format use नहीं करने पर Readers को पूरा Post पढने के बाद भी कुछ समझ नहीं आता और आगे से वो Site Visit नहीं करना चाहता है.
  • Bad or No Interlinking : Blog Post में दुसरे post का Link न होना या गलत तरीके से होना.

Bounce Rate कम रहने का क्या फायदा है और  कैसे करें? जानने के लिए Click करें.

You may also read

SEO Purpose Se Standard Blog Post Length Kya Hona Chahiye?

Blogging में सफलता प्राप्त करने का मतलब क्या है?

Domain को Hackers से Safe कैसे रखे?

Keyword Less Domain Name का क्या फायदा है?

इस Post में हम ने जाना Bounce Rate kya hai? बाउंस रेट कैसे चेक करते हैं और बाउंस रेट ज्यादा होने से क्या परेशानी हो सकती है? Comment Box में जरूर बताएं आपके Blog / Website का Bounce Rate क्या है. Post से Related Confusion, Question या Suggestion के लिए भी Comment जरूर करें.

Subscribe for Quick Update

About the Author: Ashutosh Choudhary

THERE ARE NO SECRETS TO SUCCESS. IT IS THE RESULT OF PREPARATION, HARD WORK AND LEARNING FROM FAILURE. So Always Remember One Thing. "LEARN FOR EARN AND EARN FOR LEARN".
loading...

Related Post

16 Comments

  1. श्रीमान गुरूजी टिप्स जी आपका कंटेंट मुझे बेहद पसंद आया इसलिए आपसे ब्लॉग लेखन के बारे में और जानकारी लेने की जिघासा हुई तो श्रीमान मै आपसे जानना चाहता हु की आप हिन्दी और इंग्लिश के शब्द एक साथ कैसे लिखते हो |
    1. Google voice to typing
    2. Using any language changing software hindi to english and vice-versa.
    3. Typing manually
    4. how much time a post take to complete

    and sir i am a struggling blogger and having so much difficulties in obtaining google adsense approval and seo and site loading speed.

    sir please visit my site and help me out i will be very thankful to you
    guruji please give your secret tips
    i will be your permanent reader and follower.

    1. Purushottam Ji Eglish Hindi sath me typing ke liye google hindi typing extension ya software install kar lijiye.
      Google Voice to typing sahi hai lekin abhi proper working nahi hai.
      Manually type karne se aap jo likhna chahte ho wahi likhoge.
      Post likhne me lagne wala samay likhne wale par depend karta hai.
      Blogging aur SEO ke liye sabse jaruri hai unique and quality content par kaam karna chahiye.
      Google Adsense Approval ke liye site par unique content ke sath kuchh traffic ka hina jaruri hai.
      Aapki Site Technical Puruji informative site hai ise regular update kijiye.

  2. Sir ji…. Bloger ke stats me page views jyada bata raha hai…. Search console me thoda Kam…. Google Analytics me bahot Kam….. Ye alag alag q batate hainnn….. Pls batayen

  3. Bahut achchhi Jankari hai mere blog ka bounce rate 78 % hai. Kya yah sahi hai. Traffic kaise badhave please bataye.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *