What are the legal rights of married women in India full guide in Hindi शादीशुदा महिला के कानूनी अधिकार

Legal Rights of Married Women, हर शादीशुदा महिला को कुछ कानूनी अधिकार दिया गया है. इस कानूनी अधिकार की जानकारी हर शादीशुदा महिला के पास जरूर होना चाहिए.

यदि आप शादीशुदा हैं तो यह जानकारी आपके बहुत काम आएगी. इसके अलावा आज शादीशुदा नहीं है कल तो शादी जरूर कर लेगी तो शायद कल ही आपके काम आने वाला है.

शादी एक गहरी नींव है, जो समाज में लोगों और परिवार को आपस में बांध कर रखने का काम करती है. बहुत से लोग शादीशुदा जिंदगी को सफल तरीके से जीने में कामयाब हो जाते हैं, वहीं बहुत से लोगों के लिए यह एक खौफनाक और कठिन परिस्थिति बन जाती है.

शादी को सफल या खौफनाक बनाने में दोनों पक्ष का सहयोग होता है. यदि समझदारी से काम लिया जाये तो शादी का बंधन किसी वरदान से कम नहीं होता है.

कई बार ऐसा भी देखा गया है एक पक्ष अच्छा बर्ताव कर रहा हो तो भी दूसरा अच्छा बर्ताव नहीं करना चाहता है जिससे शादी के बंधन में दरार आ जाता है.

ऐसे कई मामले भी सामने आते हैं, जिनमें महिलाएं सालों तक अपने ऊपर हो रहे अत्याचारों को सहती रहती हैं, क्योंकि उन्हें अपने अधिकारों की जानकारी नहीं होती है.

इसीलिए इस लेख में हमने इंडियन लीगल राइट्स जो महिलाओं को दिया गया है उसके बारें में बात किया है. इस लीगल अधिकार की जानकारी सभी महिलाओं को ह्होना चाहिए. इसीलिए इस लेख को ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ सझा करें.

यह जानकारी सझा करने के लिए नीचे व्हाट्सएप बटन पर क्लिक कर उनसे साझा कर सकते हैं.

शाम के बाद महिलाओं के साथ ऐसा नहीं कर सकते हैं !

legal rights of married women
Legal Rights of Married Women

पति के घर में रहने का अधिकार

पति के घर में रहने के अधिकार को मैट्रिमोनियल घर का अधिकार भी कहा जाता है. एक शादीशुदा महिला अपने पति के घर मतलब अपने ससुराल में रह सकती है इसका उसे पूरा अधिकार है.

कुछ परिस्थिति में ऐसा देखा गया है लोग अपने ससुराल छोड़ मायके आ जाते हैं. लेकिन कानूनी हक के बारे में बात करें तू चाहे परिस्थिति कैसी भी हो यहां तक कि पति की मृत्यु हो गई हो तो भी पत्नी अपने ससुराल में रह सकती है.

यदि पति पत्नी के बीच तालाब की बात चल रही हो या तलाक की बात कोर्ट में हो, इस परिस्थिति में भी पत्नी अपने पति के घर तब तक रह सकती है जब तक उसे रहने के लिए कोई दूसरी जगह नहीं मिल जाती है.

यदि तलाक प्रक्रिया के दौरान भी पत्नी आपने पति के घर में रहना चाहती है है तो तलाक हो जाने तक वह आपने पति के घर में रह सकती है. कहने का मतलब साफ है, पत्नी अपने पति के घर में जब तक चाहे रह सकती है यह उसका लीगल है.

Domestic Violence Helpline Number in India

स्त्रीधन का अधिकार

Hindu Succession act 1956 में सेक्शन 14 और Hindu Marriage act 1955 में सेक्शन 27, के अंतर्गत एक महिला स्त्रीधन को अधिकारपूर्वक और मालिकाना हक के साथ मांग सकती है.

अगर उसके इस अधिकार का हनन होता है, तो ऐसी परिस्थिति में वह The protection of Women Against Domestic Violence Act में सेक्शन 19 A, के अंतर्गत शिकायत दर्ज करा सकती है.

अबॉर्शन का अधिकार

महिला के पास अपने गर्भ में पल रहे बच्चे को गिराने का अधिकार होता है. यह उसके निजता का मामला है वह बच्चा रखना चाहती है तो रखेगी अन्यथा वह कोई भी कदम बिना किसी से पूछे, बिना किसी को बताये उठा सकती है.

इसके लिए उसे अपने ससुराल या अपने पति की सहमति की जरूरत नहीं है. The Medical Termination of Pregnancy Act, 1971, के अंतर्गत एक महिला अपनी प्रेगनेंसी को किसी भी समय खत्म कर सकती है, इसके लिए प्रेगनेंसी का 24 सप्ताह से कम का होना जरूरी है.

कुछ स्पेशल केस इसमें एक महिला अपने प्रेगनेंसी को 24 सप्ताह के बाद भी अबॉर्ड करा सकती है, इसके लिए इंडियन कोर्ट ने उसे अधिकार दिया है.

कपल्स का कानूनी अधिकार क्या है Legal Rights of Couples

बच्चे को रखने का अधिकार

एक महिला के पास इस बात का पूर्ण रूप अधिकार होता है कि वह अपने बच्चे को आपने पास रखने की मांग कर सकती है. खासतौर पर यदि बच्चा 5 साल से छोटा हो.

इसके साथ ही अगर वह अपना ससुराल छोड़ कर जा रही है, ऐसी परिस्थिति में भी वह बिना किसी कानूनी ऑर्डर के अपने बच्चे को अपने साथ ले जा सकती है.

इसके साथ ही एक समान अधिकार के तहत यदि घर में विवाद की स्थिति पैदा होती है, तो महिला अपने बच्चे को आपने पास रख सकती है.

तलाक का अधिकार

हिंदू मैरिज एक्ट सेक्शन 13, 1995, के अंतर्गत एक महिला अपने पति की सहमति के बिना भी उस स्थिति में तलाक लेने का अधिकार रखती है, जब उसके साथ पति ने बेवफाई की हो, या उस महिला के साथ निर्दयता या शारीरिक और मानसिक अत्याचार आदि किया हो.

इसके साथ ही महिला अपने पति से मेंटेनेंस चार्ज की मांग कर सकती है. ‘इंडियन पेनल कोड’ सेक्शन 125, के तहत एक पत्नी अपने और अपने बच्चे के लिए अपने पति से फाइनेंसियल जरूरतों को पूरा करने की मांग कर सकती है.

FIR Full Form FIR Online Kaise Kare in Hindi

संपत्ति का अधिकार

The Hindu Succession Act, 1956 में 2005 में हुए संशोधन, के बाद एक बेटी चाहे वह शादीशुदा हो या ना हो, अपने पिता की संपत्ति को पाने का बराबरी का हक रखती है.

इसके साथ ही महिला अपने पूर्व पति की संपत्ति पर अपना अधिकार जता सकती है. हालांकि, ये उस स्थिति में संभव है, जब उसके पति ने उसे अपनी संपत्ति से बेदखल करने संबंधित वसीयत न बनाई हो.

इसके साथ ही अगर किसी महिला का पति तलाक के बिना दूसरी शादी कर लेता है, तो उस परिस्थिति में पति की पूरी संपत्ति पर उसकी पहली पत्नी का अधिकार होता है.

घरेलू हिंसा के खिलाफ रिपोर्ट करने का अधिकार

कहा जाता है घर की चारदीवारी के अन्दर महिलाएं ज्यादा सुरक्षित हैं. लेकिन आज भी हमारे समाज में कुछ ऐसे लोग भी हैं जिनके वजह से महिलाएं घर के चारदीवारी के अन्दर अपने आप को सुरक्षित महसूस नहीं कर रही हैं.

घर के अन्दर महिलाओं के साथ हो रहे अपराध Domestic Violence (घरेलु हिंसा) के अंतर्गत आता है. Domestic violence Act 2005, के अंतर्गत एक महिला को यह अधिकार प्राप्त है, कि अगर उसके साथ उसका पति या उसके ससुराल वाले शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक, सैक्शुअल या आर्थिक रूप से अत्याचार यो शोषण करते हैं, तो वह उनके खिलाफ शिकायत दर्ज करवा सकती है.

INTERNET से पैसा कैसे कमायें Make Money From Internet

दहेज और उत्पीड़न के खिलाफ रिपोर्ट करने का अधिकार

Dowry Prohibition Act 1961 के तहत, एक महिला को यह अधिकार प्राप्त है कि अगर उसका पैतृक परिवार या उसके ससुराल के लोगों के बीच किसी भी तरह के दहेज का लेन-देन होता है, तो वह इसकी शिकायत कर सकती है.

IPC के Section 304B और 498A, के तहत दहेज का आदान-प्रदान और इससे जुड़े उत्पीड़न को गैर-कानूनी व अपराधिक करार दिया गया है.

यह भी पढ़ें

Police, FIR और गिरफ़्तारी से जुड़ी हुई महिलाओं के अधिकार

भारतीय महिला को जरूर पता होना चाहिए कानूनी अधिकार

Domestic Violence (घरेलु हिंसा) in India in Hindi

हमारा सबसे निकटवर्ती शत्रु

सारांश

पृथ्वी पर जितने भी सजीव जगत की वस्तुए हैं, उनका इस पृथ्वी पर बराबर का अधिकार है. लेकिन, जब बात मनुष्य जाती की आती है तो जन्म लेने से पहले भी उसका कुछ अधिकार होता है साथ ही जब कोई बच्चा जन्म लेता है तो कुछ मौलिक अधिकारों के साथ जन्म लेता है.

इसी तरह एक शादी शुदा महिला को भी कुछ अधिकार दिया गया है. जिसकी जानकारी ऊपर दिया गया है. एक शादी शुदा महिला का उसके पति और उसके संपत्ति पर पूरा अधिकार होता है.

अन्य किसी जानकारी के लिए नीचे कमेन्ट बॉक्स में कमेन्ट कर सकते हैं.

यदि यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो Spread the love Please Share...
Ashu Garg

Guruji Tips is a website to provide tips related to Blogging, SEO, Social Media, Business Idea, Marketing Tips, Make Money Online, Education, Interesting Facts, Top 10, Life Hacks, Marketing, Review, Health, Insurance, Loan and Internet-related Tips. यदि आप भी अपना Content इस Blog के माध्यम से publish करना चाहते हो तो कर सकते हो. इसके लिए Join Guruji Tips Page Open करें. आप अपना Experience हमारे साथ Share कर सकते हो. धन्यवाद !

Leave a Reply

Your email address will not be published.